Khubsurti ki tareef shayari in hindi

khubsurti ki tareef shayari in hindi

उनकी तारीफ़ क्या पूछते हो उम्र सारी गुनाहों में गुजरी
अब शरीफ बन रहे है वो ऐसे जैसे गंगा नहाये हुए है

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

khubsurti ki tareef shayari in hindi
khubsurti ki tareef shayari in hindi


Dheere se sarkti hai raat,
Us ke aanchal kee tarah,
Uska chehra Nazar aata hai
Jheel mein khile kamal kee tarha!!!

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

यू तारीफ ना किया करो मेरी शायरी की
दिल टूट जाता है मेरा जब तुम मेरे दर्द पर वाह-वाह करते हो

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Jis din aap jami par aaye,
Woh Asman bhi khub roya tha,
Akhir uske ansu thamte bhi kaise,
Usne Hamare liye
Apna Sabse payara sitara jo khoya tha...!

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Mil Jaenge Hamaari Bhi Taareef" Karane Vaale.
Koy Hamaari Maut Kee "Afavaah" To Phailao Yaaron

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

khubsurti ki tareef shayari in hindi

Teri palko ki chayon mein meri shaam ho jaye,
Tere mushkurane bhar se meri dhadkane ruk jaye,

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

तेरे नैनो की शोख अदाओं ने हमे लूटा लिया
तेरी झील सी गहरी आँखों ने हमे लूटा लिया
हम तो लूट चुके है इस कदर ऐ हसीं ख्वाब
अब डरता हूँ कहीं कोई लूट न ले मेरे ख्वाब

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Ga sakun apka nagma wo saaaz kahan se laun,
Suna sakun kuch apko wo andaaz kahan se laun,
Yun to chandani ki tarif karna asaan hai,
Kar sakun aapki tarif wo alfaaz kahan se laun.


🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Unki Khubsurati Ki Kya Taarif Karun Eh Yaaron,
Khuda Bhi Un Jaisa Koi Aur Na Bana Paya Hoga,
Main Toh Pareshan Hun Yeh Sochkar Ki Shayad,
Na Zindagi Mein Aayega, Na Un Jaisa Koi Aaya Hoga

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Kya Likhoon Teri Soorat - E - Taarreef Men , Mere Hamadam
Alphaaj Khatm Ho Gaye Hain, Teri Adayen Dekh-Dekh Ke

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

khubsurti ki tareef shayari in hindi


फिज़ाओ में रंग बिखेरे तुम्हारा चाँद सा चेहरा
मुझे बेचैन कर जाये तुम्हारा मासूम चाँद सा चेहरा
मेरी खातिर सँवरता है तुम्हारा चाँद सा चेहरा

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

मेरे मेहबूब की बस इतनी सी तारीफ है
चेहरा जैसे रोशन चाँद शरबती उसकी ऑंखें है ​
नाज़ुक होंठ कलियों जैसे , दाँत जैसे सफ़ेद मोती है
लंबी घनी ज़ुल्फ़ें उसकी काली , उस पे अदा निराली है ​

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹


ये इश्क़ बनाने वाले की मैं तारीफ करता हूं
मौत भी हो जाती है और क़ातिल भी पकड़ा नही जाता

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Chahat Hai Bas Tumhe Paane Ki,
Koi Aur Tamanna Nahi Iss Deewane Ki,
Aapse Nahi, Khuda Se Shikva Hai Mujhe,
Zaroorat Kya Thi Tumhe Itna Khubsurat Banane Ki?

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹


ये आईने ना दे सकेंगे तुझे तेरे हुस्न की खबर,
कभी मेरी आँखों से आकर पूछो के कितनी हसीन हों तुम…!!


🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Yeh gulaab se honth jo chu jaye mere hontho se,
bin piye hi hame nashaa cha jaye.

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

khubsurti ki tareef shayari in hindi

Ga sakun apka nagma wo saaaz kahan se laun,
Suna sakun kuch apko wo andaaz kahan se laun,
Yun to chandani ki tarif karna asaan hai,
Kar sakun aapki tarif wo alfaaz kahan se laun.

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

लोग भले ही मेरी शायरी की तारीफ न करे
खुशी दुगनी होती है जब उसे कॉपी पेस्ट में देखता हूं

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

तेरे हुस्न का दीवाना तो हर कोई होगा
लेकिन मेरे जैसी दीवानगी हर किसी में नहीं होगी।


🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Puchho mere dil se tumhe paigam likhta hu
Saath gujri baate tamam likhta hoon,
Diwani ho jati hain wo kalam bhi
Jis kalam se tumhara naam likhta hoon.

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹


क्या तुझे कहूं तू है मरहबा.
तेरा हुस्न जैसे है मयकदा
मेरी मयकशी का सुरूर है,
तेरी हर नजर तेरी हर अदा_

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹


!Musqurate Hain To Bijliya Gira Dete Hain,
Baat Karte Hain To Deewana Bana Dete Hain,
Husan walo Ki Nazar Kam Nahi qayamat Se,
Aag Pani Me Vo Nazaron Se Laga Dete Hain…!

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

khubsurti ki tareef shayari in hindi


मुझको मालूम नहीं…. हुस़्न की तारीफ,
मेरी नज़रों में हसीन ‘वो’ है, जो तुम जैसा हो, ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

तेरी तरफ जो नजर उठी
वो तापिशे हुस्न से जल गयी
तुझे देख सकता नहीं कोई
तेरा हुस्न खुद ही नकाब हैं

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Par likhu toh likhu kaise tareef tere husn ki
kambhakt nigahein tujhse hat kagaj par kha aye...!!

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

जब चलती है गुलशन में बहार आती है बातों में जादू
और मुस्कराहट बेमिसाल है ​उसके अंग अंग की
खुश्बू मेरे दिल को लुभाती है यारो यही लड़की
मेरे सपनो की रानी है |

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

ये आईने ना दे सकेंगे तुझे तेरे हुस्न की खबर,
कभी मेरी आँखों से आकर पूछो के कितनी हसीन हों तुम…!!


🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Teri khubsurti ko meray alfaaz chu nahin saktay
Hujoom-E-Husn mein tum SHAHZAADI lagti ho..!!!

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

khubsurti ki tareef shayari in hindi

Teri Aankhon ke jaadu se tu khud nahi hai waakif,
Yeh use bhi jeena sikha deta jise marne ka shauk hai...

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹


तेरी तारीफ मेरी शायरी में जब हो जाएगी
चाँद की भी कदर कम हो जाएगी

Post a Comment

0 Comments